Advertisement
Categories: देश

एंटी रेडिएशन स्‍वदेशी मिसाइल रूद्रम का टेस्‍ट सफल, DRDO चीफ बोले – और सशक्‍त हो जाएगी वायुसेना | nation – News in Hindi

डीआरडीओ चीफ ने दी जानकारी.

नई दिल्‍ली. भारत ने एक और उपलब्धि हासिल की है. रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने 9 अक्‍टूबर को देश की पहली एंटी रेडिएशन मिसाइल रूद्रम 1 (Anti Radiation Missile Rudram) का सफल परीक्षण किया है. इसे भारतीय वायुसेना के एसयू-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से लॉन्‍च किया गया था. इस पर अब डीआरडीओ के प्रमुख जी सतीश रेड्डी ने प्रतिक्रिया दी है. उन्‍होंने कहा है कि इससे वायुसेना और सशक्‍त हो जाएगी.

डीआरडीओ प्रमुख ने कहा, ‘विमान से एंटी रेडिएशन मिसाइल का सफल टेस्‍ट किया गया. जब इसे लॉन्‍च किया जाता है तो यह हवा में कोई भी विकिरण तत्‍व खोज लेती है. इसके बाद उस पर हमला करके उसे पूरी तरह से नष्‍ट कर देती है.’ उन्‍होंने कहा, ‘हमें इसके कुछ और टेस्‍ट करने करने हैं. एक बार जब यह टेस्‍ट पूरे हो जाएंगे तो यह वायुसेना में शामिल होकर उसे और सशक्‍त करेगी. यह दुश्‍मन को धूल चटा देगी.’

बता दें कि नई पीढ़ी की यह एंटी रेडिएशन मिसाइल लंबी दूरी से विविध प्रकार के शत्रु रडारों, वायु रक्षा प्रणालियों और संचार नेटवर्कों को तबाह कर सकती है. मिसाइल रुद्रम-1, भारत की पहली स्वदेश निर्मित विकिरण रोधी शस्त्र प्रणाली है और शुक्रवार सुबह करीब 10.30 बजे ओडिशा के बालासोर में एकीकृत परीक्षण रेंज से रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने मिसाइल का परीक्षण प्रक्षेपण किया था. जब मिसाइल वायु सेना में शामिल होने के लिए तैयार होगी तो इसे एसयू-30 एमकेआई लड़ाकू विमानों के एक बैच के साथ जोड़ी जाएगी.

यह मैक टू या ध्वनि की गति से दोगुनी रफ्तार वाली मिसाइल में 250 किलोमीटर तक के दायरे में विविध प्रकार की शत्रु रडार प्रणालियों, संचार नेटवर्कों और वायु रक्षा प्रणालियों को मार गिराने की क्षमता होती है. रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि रुद्रम ने पूरी तरह सटीकता से विकिरण लक्ष्य पर निशाना साधा और इस परीक्षण से लंबी दूरी तक हवा में प्रहार करने वाली विकिरण रोधी मिसाइलें विकसित करने की भारत की क्षमता साबित हुई है.

इस मिसाइल का उड़ान परीक्षण ऐसे समय में हुआ है जब भारत का पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सीमा विवाद चल रहा है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मिसाइल के सफल परीक्षण के लिए डीआरडीओ को बधाई दी है. उन्होंने कहा, ‘नई पीढ़ी की विकिरण रोधी मिसाइल (रुद्रम-1) भारत की पहली स्वदेश निर्मित विकिरण रोधी मिसाइल है जिसे डीआरडीओ ने वायु सेना के लिए विकसित किया है. इसका सफल परीक्षण आज बालासोर में आईटीआर से किया गया. डीआरडीओ और अन्य संबंधित हितधारकों को इस प्रशंसनीय उपलब्धि के लिए बधाई.’


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.