Advertisement
Categories: देश

उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में हो सकती है बारिश, राजस्थान में और गिर सकता है तापमान

नई दिल्ली. देश के कुछ हिस्सों में शुक्रवार को हल्की से भारी बारिश तक हो सकती है. हालांकि बाकी राज्यों में मौसम साफ और शुष्क रहेगा. बताया गया कि पूर्वोत्तर के राज्य- असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में बारिश हो सकती है वहीं दक्षिण में केरल और लक्ष्वद्वीप में भी हल्की बारिश के आसार हैं. इसके साथ ही राजस्थान में सर्दी ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है जहां अनेक इलाकों में रात के तापमान में गिरावट आई है वहीं माउंट आबू में बीती रात तापमान सबसे कम 2.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

मौसम विभाग के अनुसार बीते चौबीस घंटे में न्यूनतम तापमान चुरू में 6.6 डिग्री, पिलानी में 8.3 डिग्री, गंगानगर में 8.4 डिग्री व बीकानेर में 10.3 डिग्री सेल्सियस रहा. राज्य के ज्यादातर हिस्सों में दिन का अधिकतम तापमान भी 28 डिग्री सेल्सियस या इससे कम बना हुआ है. राज्य में तापमान में आगामी 24 घंटे में और गिरावट आने का अनुमान है.

पूर्वांचल में बारिश के अनुमान
वहीं उत्तर प्रदेश में सर्दियों की शुरुआत के बीच पिछले 24 घंटों के दौरान कुछ स्थानों पर हल्की बारिश हुई. आंचलिक मौसम केन्द्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के कर्वी (चित्रकूट), चुर्क (सोनभद्र), इलाहाबाद तथा महोबा में एक—एक सेंटीमीटर वर्षा दर्ज की गयी.रिपोर्ट के अनुसार इस अवधि में राज्य के प्रयागराज, झांसी तथा आगरा मण्डलों में दिन का तापमान सामान्य से काफी नीचे दर्ज किया गया. इसके अलावा अयोध्या, कानपुर, बरेली तथा मेरठ मण्डलों में भी यह सामान्य से कम रहा. इसके अलावा प्रयागराज, अयोध्या, कानपुर, बरेली तथा मेरठ मण्डलों में रात का तापमान भी सामान्य से कम रहा.

पिछले 24 घंटों के दौरान मुजफ्फरनगर राज्य का सबसे ठंडा स्थान रहा, जहां न्यूनतम तापमान 8.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. अगले 24 घंटों के दौरान भी राज्य के पूर्वी हिस्सों में बारिश होने का अनुमान है. आगामी 21 और 22 नवम्बर को राज्य के कई स्थानों पर हल्का कोहरा भी पड़ सकता है.

दिल्ली की वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में
दिल्ली में वायु गुणवत्ता गुरुवार सुबह ‘खराब’ श्रेणी में दर्ज की गई और न्यूनतम तापमान में गिरावट की वजह से इसके और खराब होने की आशंका है. हवा की दिशा में बदलाव की वजह से शहर के प्रदूषण में पराली जलाने की हिस्सेदारी भी बढ़ गई है. दिल्ली में गुरुवार सुबह नौ बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक 272 दर्ज किया गया. वहीं बुधवार को औसत वायु गुणवत्ता सचूकांक 211 था और यह मंगलवार को यह 171 था.

मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के पर्यावरण अनुसंधान केंद्र के प्रमुख वी के सोनी ने कहा कि उत्तर-पश्चिमी हवाओं के कारण बुधवार को पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण का प्रभाव थोड़ा बढ़ गया. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की, वायु गुणवत्ता की निगरानी करने वाली इकाई ‘सफर’ ने कहा कि पराली जलाने की वजह से दिल्ली में पीएम 2.5 प्रदूषण पर असर आठ प्रतिशत रहा. यह मंगलवार को तीन प्रतिशत था.

सोनी ने कहा कि पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी पाकिस्तान में लगभग 800 स्थानों पर पराली जलते देखी गई. हालांकि, दिल्ली-एनसीआर की हवा की गुणवत्ता पर इसका प्रभाव अधिक नहीं होगा. दिल्ली के लिए केंद्र सरकार की वायु गुणवत्ता प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली ने बताया कि दिल्ली की वायु गुणवत्ता गुरुवार और शुक्रवार को ‘खराब’ श्रेणी के निचले स्तर पर रहने की संभावना है.

हालांकि सफर का कहना है कि शुक्रवार और शनिवार को यह ‘बेहद खराब’ के निचले स्तर पर रह सकता है क्योंकि बारिश के बाद बनी मौसम की अनुकूल स्थिति अब धीरे-धीरे खत्म हो रही है. आईएमडी ने बताया कि गुरुवार को न्यूनतम तापमान 9.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया . वहीं हवा की अधिकतम गति 10 किलोमीटर प्रति घंटा रहने की संभावना है. मौसम विभाग ने कहा कि दिल्ली में शनिवार तक न्यूनतम तापमान गिरकर नौ डिग्री सेल्सियस होने का अनुमान है क्योंकि पहाड़ी क्षेत्रों से ठंडी हवाएं चलनी शुरू हो गई हैं, जहां ताजा बर्फबारी हुई है.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.